Lyrics

Listen to this beautiful song in the voice of Shloka.

Lyrics :-
जोगी मगन हम गीत सुनाएं रे
तीर शबद के खींच चलाएं रे
Verse1 :-
हम खड़े काल हैं पूरा पी के विष कटोरा
हम बने आज जो भी माथे को लिख मरोड़ा
जब चढे ताल पे हो जाते हैं फिर अघोरा
सब कहे आप में झलकी दिखता शिव का थोड़ा
मैं आदमी तामसी
मुझमें ताप है आग की
रखते काम से आशकी
तभी तो लाज़मी नाम भी
अपनी बात ही राजसी
रखते राज की चाह नी
दिखता हम सा ना दूजा
तो रखलें ताज ये आप ही
इस शैली के जैविक पिता में हमरी गणना सभी करे
इन भेड़ों के झुंड से कह‌ दो हमसे तुलना नहीं करे
पूरा भिन्न भीड़ से मैं
थोड़ा सिंह पीड़ में है
क्योंकि हीर ने जो दागे थे
अबतक चिन्ह तीर के हैं
पूरे सपनों को किया जब कोई साथ था नहीं
झूठे कसमों पे मत जाना कोई आप का नहीं
करके वादे जो बातों से मुकरे उनसे ये कहना
जो एक बात का नहीं वो एक बाप का नहीं
Verse 2:-
भोले हर हर शिवा!
मोरे रग रग बसा
तू था रक्षक मेरा
तभी मैं अबतक खड़ा
था युद्ध यहां पे सम्मान का अपमान से
जिसमे शिवजी और संगीत मेरे वरदान थे
जो कहते थे कभी कुछ ना होगा कभी इस इन्सान से
वो कहते बस एक तस्वीर चाहिए थे श्रीमान के
जो आम सहज अभी खास है
मां बाप गरव करें आज पे
मैंने रैप के नक्शे पे राज्य रखा
मेरा नाम दरज इतिहास में
तो करजदार हर तिरस्कार के
खबरदार सब! ,अविष्कार मैं
असरदार एक चमत्कार किया
चमत्कार को ही नमस्कार है
नीच लीच बीत गए!
अब बस प्रीत मीत गीत है
गाना गांव से लंदन बजता
लाया सीन खीच पीठ पे
बोली में अपनी विदेशों तक दहाड़ मारते हैं
जो भी लोगों ने दिया उसका आभार मानते हैं
जिद्दी खून है मांझी का, हम उस माटी से हैं बे
ठानी जिद हमने तो फिर पूरा पहाड़ काटते हैं

Original Song Credit

Written & Performed by :- Shloka
Music & Mix mastered by :- Rudr
Directed & Edited by :- Khan Imran
Produced by:- Shlokprabandhan
Art work:- Himanshu bhola
Dance performed by :- (T.U.C The Unknown Crew)

Cover Song Credit

Tags: , , , , , ,

Queue
clear